रिसर्च से पता चलता है कि जिन लोगों को गहरे तनाव या आघात का सामना करना पड़ा है, उनमें फाइब्रोमायल्जिया विकसित हो सकता है, और इसमें आनुवंशिकी भी एक भूमिका निभा सकती है। दोस्तों और परिवार को अक्सर यह समझना मुश्किल हो जाता है कि कैसे स्वस्थ दिखने वाला व्यक्ति अस्वस्थ हो सकता है या सामान्य रूप से कार्य करने में असमर्थ है। कभी कभी मात्र व्यक्ति के चिड़चिड़ाने या बिना बात झल्लाने पर आसपास के लोग उसकी स्थिति का गलत आंकलन करते हैं। जबकि यह फाइब्रोमायल्जिया के कारण भी हो सकता है।

Widespread muscle pain and tenderness on both sides of the body are the most common symptoms of Fibromyalgia which is often accompanied by fatigue, malaise, and poor sleep. A cognitive symptom commonly referred to as “fibro fog” impairs the ability to focus, pay attention, and concentrate on mental tasks. Ayurvedic therapies and remedies can help control symptoms. Exercise, relaxation, and stress-reduction measures also may help. Ayurvedic supplements help to reduce pain and improve sleep.

Common choices include:
(1) Pain relievers. Sukumar Guggul Rasayana, Jathiphala, and Praval are helpful.
(2) Antidepressants. Medhya Rasayana ayurvedic Ghee
(3) Anti-seizure drugs. Neuro Pills, Omni Tab, Omni Cept, MyoCons, and Medhya Rasayana are often useful in reducing certain types of pain.

Comments Are Closed!!!
Translate »